Maine Pucha Chand Se Lyrics In Hindi मैंने पूछा चाँद से

मुखड़ा :-

मैंने पूछा चाँद से की देखा है कहीं मेरे यार से हसीं

चाँद ने कहा चांदनी की कसम नहीं नहीं नहीं

मैंने पूछा चाँद से की देखा है कहीं मेरे यार से हसीं

चाँद ने कहा चांदनी की कसम नहीं नहीं नहीं

मैंने पूछा चाँद से

अंतरा :-

मैंने ये हिजाब तेरा ढूंढा

हर जगह शबाब तेरा ढूढ़ा

कलियो से मिसाल तेरी पुछी,

फूलो में जवाब तेरा ढूंढा

मैंने पुछा बाग़ से, फ़लक हो ज़मीन

ऐसा फूल है कहीं

बाग़ ने कहा हर कली की कसम

नहीं नहीं नहीं

मैंने पूछा चाँद से

अंतरा :-

हो चाल है की मौज की रवानी

ज़ुल्फ़ है की रात की कहानी

होठ हैं की आईने कँवल के

आँख है की महका दो की रानी

मैंने पूछा जाम से फ़लक हो या ज़मीन

ऐसी मय भी है कहीं

जाम ने कहा मेहकशी की कसम

नहीं नहीं नहीं

मैंने पूछा चाँद से

अंतरा :-

ख़ूबसूरती जो तूने पाई

लुट गयी खुदा की बस ख़ुदाई

मीर की ग़ज़ल कहूं तुझे मैं

या कहु खैय्याम की रूबाई

मैंने जो पूछूं शायरों से ऐसा दिल नशी

कोई शेर है कहीं

शायर कहे शायरी की कसम

नहीं नहीं नहीं

मैंने पूछा चाँद से की देखा है कहीं मेरे यार से हसीं

चाँद ने कहा चांदनी की कसम नहीं नहीं नहीं

मैंने पूछा चाँद से

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *